मंजिल समर्पण से मिलती है motivational story in hindi for success

lakshy ka vedh motivational story in hindi for success
lakshy ka vedh motivational story in Hindi for success




lakshy ka vedh motivational story in hindi for success

हेलो दोस्तों आज एक प्रेरणादायक कहानी है जो आप लोगों ने बहुत बार पढ़ी भी होगी और सुनी भी होगी यह कहानी है महाभारत काल की जब पांडव और  कौरव अपनी शिक्षा के लिए गुरुकुल पढ़ने गये थे और द्रोणाचार्य उनके गुरु थे एक समय द्रोणाचार्य  ने सारे शिष्यों की परीक्षा ली और देखना चाहा कौन अपने लक्ष्य को भेद कर सकता है


गुरु द्रोणाचार्य सारे शिष्यों को एक पेड़ के पास ले गये और कहा  शिष्यों इस पेड़ पर एक चिड़िया बैठी है तुम्हें उसकी आँख में तीर मारना है पहला शिष्य आया उसने पेड़ पर देखा  पर उसे तो चिड़िया ही नहीं दिखी   


अब दूसरे शिष्य की बारी आई वह बोला गुरु जी मुझे डालिया और पत्तो के सिवा कुछ नहीं दिखाई दे रहा है फिर तीसरे शिष्य की बरी आयी उसने कहा गुरुजी चिड़िया तो मुझे दिखाई दे रही पर उसकी आंख मुझे ठीक से नहीं दिखाई दे रही गुरु ने कहा अब तुम भी जाओ सारे  शिष्य ने  परीक्षा थी

लेकिन कोई भी उस चिड़िया की आंख को वेध नहीं कर पाए अब सिर्फ अर्जुन ही शेष बचा था तो गुरु जी ने का अर्जुन अब तुम्हारी बारी है फिर अर्जुन आया उन्होंने सारे वृक्ष  को ना देख कर अपना सारा ध्यान उस चिड़िया की आँख पर ही लगाया

lakshy ka vedh motivational story in hindi for success

उन्हें बस चिड़िया की आँख के सिवा कुछ भी नहीं दिखाई दे रहा था और फिर उन्होने धनुष पर तीर रख कर अंदर साँस को लेकर तीर को छोड़ दिया उस तीर ने चिड़िया की आँख को वेध दिया ये देख कर सारे  शिष्य तालियाँ बाजाने लगे 

सीख हम सभी को अपने लक्ष्य के प्रति अर्जुन की तरह समर्पित  होना  चाहिए जैसे अर्जुन ने सारे वृक्ष में उस चिड़िया की सिर्फ आपको देखा वैसे ही हमें अपने लक्ष को देखना चाहिए




lakshy ka vedh motivational story in hindi for success

हमें और शिष्यों की तरह भटकना नहीं चाहिए जैसे अर्जुन नहीं भटका जो सिर्फ हमारा लक्ष्य है उसी पर अपना सारा ध्यान केंद्रित करना चाहिए जैसे अर्जुन ने किया तभी हम अपने लक्ष्य का वेध कर पाएंगे ( पहुंच पाएंगे ) स्वामी विवेकानंद जी ने बहुत अच्छा कहा है उठो जागो और तब तक चलते रहो जब तक कि तुम्हें तुम्हारा लक्ष्य हासिल नहीं हो जाता है 
हमें भी इन बातों का स्मरण करते हुए आगे बढ़ना चाहिए  फिर हमारा मन कभी भी अपने उद्देश्य  से नहीं भटकेगा 

आप को ये कहानी  कैसी लगी अपनी राय जरूर बताये  
मंजिल समर्पण से मिलती है motivational story in hindi for success मंजिल समर्पण से मिलती है motivational story in hindi for success Reviewed by Sweet stories on November 27, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.